Friday, May 20, 2022
No menu items!
More
    Homeअजब-गजबअजीब तरह का है यह पेड़ देता है अनेक प्रकार के फल

    अजीब तरह का है यह पेड़ देता है अनेक प्रकार के फल

    आमतौर पर एक पेड़ पर एक ही प्रकार का फल आता है। दुनिया में एक ऐसा पेड़ भी है जिस पर एक, दो, पांच, दस नहीं बल्कि 40 तरह के फल गलते है। इस खबर को पढ़कर एक बार तो यकीन नहीं किया जा सकता है, लेकिन यह बिल्कुल सच है। इस पेड़ पर कई किस्म के फल आते है। अमेरिका में एक विजुअल आर्टस के प्रोफेसर ने एक ऐसा ही अद्भुत पौधा तैयार किया है। इस पर 40 प्रकार के फल लगते हैं। यह अनोखा पौधा ‘ट्री ऑफ 40’ नाम से काफी मशहूर है। इसमें बेर, सतालू, खुबानी, चेरी और नेक्टराइन जैसे कई तरह के फल लगते हैं।

    आपको यह जानकर भी ताज्जुब होगा कि 40 प्रकार फल देने वाला यह पौधा बिकाऊ भी है। इसकी कीमत 19 लाख रूपए लग चुकी है। इस पेड़ को अमरीका की सेराक्यूज यूनिवर्सिटी में विजुअल आर्ट्स के प्रफेसर वॉन ऎकेन ने तैयार किया है। उन्होंने इस पेड़ का नाम ट्री ऑफ 40 रखा गया है। इस पेड़ से लगने वाले फलों में बेर, सतालू, खुबानी, चेरी और नेक्टराइन जैसे फल शामिल है। इस अनोखे पोधे को विकसित करने के लिए उन्होंने साइंस का सहारा लिया है। उन्होंने इस काम की शुरुआत साल 2008 में की थी, जब उन्होंने न्यूयॉर्क राज्य कृषि प्रयोग में एक बगीचे को देखा, जिसमें 200 तरह के बेर और खुबानी के पौधे थे

    दरअसल, बगीचा पैसों की कमी से बंद होने वाला था, जिसमें कई प्राचीन और दुर्गम पौधों की प्रजातियां भी थीं। चूंकि प्रोफेसर वॉन का जन्म खेती से संबंधित परिवार में हुआ था, इसलिए उनकी दिलचस्पी भी खेती-बाड़ी में खूब थी। उन्होंने इस बगीचे को लीज पर ले लिया और ग्राफ्टिंग तकनीक की मदद से उन्होंने ‘ट्री ऑफ 40’ जैसे अद्भुत पेड़ को उगाने में कामियाबी हासिल की। ग्राफ्टिंग तकनीक के तहत पौधा तैयार करने के लिए सर्दियों में पेड़ की एक टहनी कली समेत काटकर अलग कर ली जाती है। इसके बाद इस टहनी को मुख्य पेड़ में छेद करके लगा दिया जाता है। इसके बाद जुड़े हुए स्थान पर पोषक तत्वों का लेप लगाकर सर्दी भर के लिए पट्टी बांध दी जाती है। इसके बाद टहनी धीरे-धीरे मुख्य पेड़ से जुड़ जाती है और उसमें फल-फूल आने लगते हैं।

    RELATED ARTICLES

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    - Advertisment -

    Most Popular

    Recent Comments